(2021) Vehicle Scrappage Policy|स्क्रैप पॉलिसी क्या है? उसके फायदे और नुकसान!

नई व्हीकल स्क्रैप पॉलिसी क्या है? किन-किन वाहनों पर लागु होगी, उसके फायदे और नुकसान क्या है और यह नए नियम कब तक लागु होंगे जाने पूरी जानकारी!

क्या आप की गाडी 15 साल पुरानी है? तो उसे कबाड़ी में भेजना पड़ेगा! है दोस्तों अपने सही पढ़ा अगर आपका व्हीकल 15 साल पुराना है और आप गुजरात के रहने वाले है तो 13 अगस्त 2021 से यह नियम लागु हो चूका है। तो जानिए इसकी पूरी जानकारी की यह नई Vehicle Scrapper Policy in 2021 क्या है।

भारत सरकार ने स्क्रैप व्हीकल पोलिसी तैयार की है और गुजरात में 13 अगस्त से गाँधीनगर के महत्मा मंदिर से केंद्रीय परिवहन मंत्री नीतिन गड़करी ने यह घोसित किया है की गुजरात के 1.5 करोड़ से ज़्यादा गाड़िया 15 साल या उससे अधिक हो चुके है उसे कबाड़ में भेजें जाने की योजना घोसित की गई है।

किस-किस को यह स्क्रैप व्हीकल पोलिसी का नियम लागु होगा?

अगर आपका कमर्सिअल व्हीकल 15 साल या उससे पुराना हो चूका है तो उसे आपको कबाड़ख़ाने भेजना होगा और अगर आपका व्हीकल पैसेंजर है और 20 साल पुराना हो चूका है तो उसे भी आपको कबाड़ में भेजना होगा और उसके लिए सरकार बनाएगी scrap yard (कबाड़ खाना).

सरकार द्वारा स्वीकृत स्क्रैप यार्ड क्या है?

सरकार द्वारा स्वीकृत स्क्रैप यार्ड (Scrape Yard ) यानि की वह जग़ह जहाँ आपका 15 से 20 साल पुरानी गाडी या वाहन भेज दिया जायेगा और फिर उसे तोड़ कर अलग कर दिया जायेगा। आपकी जानकारी के लिए बतादू की यह स्केप यार्ड साणंद, वीरमगाम, मांडल, बेचराजी और सांवली के ऑटो मोबाइल सेझ में स्क्रेपे यार्ड तैयार करेगा और उसमे आपके सभी पुरानी गाडियोंका निकल किया जायेगा। और इसके अलावा भावनगर के अलंग और कच्छ में भी सरकार स्केप यार्ड बनाने को सोच रही है इस कबाड़ खाने में हजारों लोगो को रोजगारी मिलेगी ।

अब आपके मन में यह सवाल आ रहा होगा की की आखिर क्यों पुराने वाहन कबाड़ में जायेंगे, क्यों की पुराने गाड़ियों की वज़ह से हवामान में बहुत pollution हो रहा है और इस प्रदूषण को रोकने के लिए National Green Tribunal (NTG) ने भारत सरकार और राज्य सरकार को या अपील की थी की पुराने वाहन पर रोक लगा दी जाए उसके बाद बजेट क्षेत्र में भी केंद्र सरकार Vehicle Scrappage Policy को रख्खा था। उसमे 15 साल पुराने खानगी वाहन और 20 साल पुराने पैसेंजर वाहन को कबाड़ में भेज दिया जाये।

क्या है स्क्रैप पालिसी? (What is the Vehicle Scrappage Policy 2021)

Reuse, Reduce and Recycle ऐसे तीन “R” पर आधारित है गांधीनगर के महात्मा मंदिर से केंद्रीय मंत्री नीतिन गडकरी ने इस नियम के अनुसार गुजरात के 1.5 करोड़ वाहनोको कबाड़ख़ाने ले जाने का रोड मैप तैयार किया जायेगा। इस पॉलिसी में टेक्नोलॉजी के इस्तेमाल से गाड़ियों को तोडना एवं उसके स्पेर पार्ट का फिरसे यूज़ करने पर जोर दिया गया है।

हाल ही में क्या व्यवस्था की गई है?

भारत में वर्तमान में Vehicle Srcappege के लिए ऐसी कोई भी मान्यता प्राप्त सुविधा नहीं है जिसको ले कर केंद्र सरकार और राज्य सर्कार मिलकर यह यह नियम लागु करने के लिए तैयार है।

इससे हमें क्या फायदा होगा? (Benefits of Vehicle Scrappage Policy 2021)

नए नियमो के अनुशार आपके 15 से 20 साल पुराने वाहनों को कबाड़ख़ाने भेजना अनिवार्य हो जायेगा और जब आपकी गाडी कबाड़ में जाएगी तो गाडी की एक्सशोरूम की क़ीमत का 4% – 6% कीमत आपको मिल पाएगी। इसके अलावा नई गाडी खरदने पर आप लोगों को रोड टेक्स में 25% छूट दी जाएगी इतना ही नहीं नई गाडी खरीदते वख्त स्क्रैप सर्टिफिकेट दिखने पर new vehicle की कीमत में 5% का डिस्काउंट भी मिलेगा। नए वाहन की खरीदी पर रजिस्ट्रेशन फ्री हो पायेगा।

इसके अलावा नया नियम यह भी है की अगर आपकी गाडी फिटनेस टेस्ट (Fitness Test) में फ़ैल हुई तो आपकी गाडी कबाड़ी में जाएगी। 15 से 20 साल पुरानी गाड़ियों का रजिस्ट्रशन ख़त्म होने के पश्चात आपको उसे फिटनेस टेस्ट सेंटर पर ले जाना होगा। इसके लिए सरकार देश भर में 718 Fitness Center खोलने जा रही है। इसका मतलब अगर तुम्हारा व्हीकल टेस्ट में पास हुआ तो आप इसे रोड पे चला सकोगे और फ़ैल हुआ तो इसे कबाड़ख़ाने भेजना होगा।

अगर आप ऐसी गाड़िया लेकर कही भी घूमोगे जो फिटनेस टेस्ट में फ़ैल हुई है तो इसके लिए सरकार आपको दंड वसूल सकती है या आपका वहां जप्त भी कर सकती है इस बात का ध्यान रखे। फिटनेस टेस्ट सेंटर पर गाड़ियों को ले जाने के लिए अपॉइंटमेंट ऑनलाइन मिलेंगी और फिटनेस रिपोर्ट भी ऑनलाइन ही जेनेरेट होगा।

अब हमने आप लोगों को सारे नियमों को बता तो दिया लेकिन आपके मन में यह सवाल आ रहा होगा की यह नियम लागु कबसे होंगे?

कब से होंगे नियम लागु? (Vehicle Scrappage Policy Startup Date)

1 अक्टूबर 2021 के दिन से यह फिटनेस टेस्ट और सरकारी स्क्रैपिंग सेंटरों के नियम लागु होंगे। 1 अप्रिल 2022 से 15 साल या उससे पुराने सरकारी गाड़ियों ओर PUS वाहनों का स्क्रैपिंग शुरू होगा और 1 अप्रिल 2023 से हेवी व्हीकल का फिटनेस भी शुरू हो जायेगा ।

Vehicle Scrappage Policy-2021

निजी वाहनों के लिए नियम (Private Vehicle Scrappage Policy 2021)

  • निजी वाहनों के के रजिस्ट्रशन 15 साल तक मान्य रहेंगे।
  • 15 साल के बाद निजी वाहनों को फिटनेस रजिस्ट्रशन लेना होगा अनिवार्य।
  • 15 साल के बाद लिया गया फिटनेस सर्टीफिकेट अगले 5 साल तक मान्य रहेगा।
  • निजी वाहनों के लिए ऑटोमेटिक फिटनेस टेस्टिंग सेंटर पे फिटनेस टेस्ट 1 जुलाई 2024 से फरजियात किया जाने की सम्भावना। 
  • अगर कोई vehicle (वाहन) फिटनेस टेस्ट में विफल हुआ यानि की फ़ैल हुआ तो उसे रिटेस्ट करके अपलेट अथॉरिटी में भेजा जाएगा।
  • अपलेट अथॉरिटी में पास होने वाहन की समय मर्यादा पूरी हुई मानी जाएगी और उसे फिर स्क्रैप में भेज दिया जाएगा।

व्यावसायिक वाहनों के लिए नियम (Commercial Vehicle Scrappage Policy 201)

  • व्यावसायिक वाहनों को रजिस्ट्रशन के पहले साल से 8 साल तक हर दूसरे साल फिटनेस टेस्ट करवाना पड़ेगा।
  • 8 साल बाद व्यावसायिक वाहनों को 15 साल तक हर साल फिटनेस टेस्ट करवाना अनिवार्य होगा।
  • 15 साल के बाद कमर्सिअल वाहन फिटनेस टेस्ट में पास हुए तो उसको 5 साल ज्यादा नवीनीकरण (Renewal) दिया जायेगा।
  • 15 साल से ज्यादा पुराने व्यावसायिक और निजी वाहनों के फिटनेस टेस्ट की कीमतों में भी बहोत ज्यादा बढ़ोतरी की गई है।

इस स्क्रैप पॉलिसी से क्या लाभ होगा

  • पुराने वाहनों की स्क्रैप वेल्यू वाहनों के एक्स शोरूम की कीमत का 4% से 5% तक मिल पाएगा।
  • मोटर वाहन के टेक्स पे, नॉन ट्रांसपोर्ट वाहनों पे 25% और ट्रांसपोर्ट वाहनों पे 15% छूट मिलेगी।
  • नए वाहनों की खरीदी पे रजिस्ट्रेशन फीस की माफ़ी दी जाएगी।

Spread the love

Leave a Comment