MSME kya hai? जानिए एमएसएमई रेजिट्रेशन और लोन के बारे में

MSME क्या है

दोस्तों My Secret Guide में आप लोगों का स्वागत है तो चलिए आज हम जानते हैं MSME Kya Hai?  एमएसएमई के फायदे, MSME Registration और Loan के बारे में।

एमएसएमई (MSME) जिसकी Full form होती है Micro Small Mediam Enterprises यह भारत की अर्थव्यवस्था की रीढ़ की हड्डी है और भारत की GDP में इनका कॉन्ट्रिब्यूशन 29% की करीब है जिनके आने वाले समय में 50% किए जाने का लक्ष्य रखा गया है। यह शब्द अभी चर्चा में है क्योंकि 27 जून 2019 को MSME Day मनाया गया है।

भारत के कुल Export में एमएसएमई का 50% योगदान रहा है जिससे आने वाले समय में बढ़ाकर 75% किए जाने का लक्ष्य रखा गया है। तो चलिए आज हम इस पोस्ट के द्वारा विस्तार से जानते हैं कि MSME  क्या है और वह कौन सी Industries है जो एमएसएमई के अंतर्गत आती है।

What is MSME? (MSME kya hai?)

दोस्तों अगर हम सीधे अर्थ में बात करें तो MSME किसी विशेष निवेश,टर्नओवर  या कर्मचारी सृंखल की सीमा के अंतर्गत आने वाले उद्योगों को एमएसएमई (MSME) कहा जाता है और इसकी फुल फॉर्म होती है Micro Small & Medium Enterprises और इसे हिंदी में कहा जाता है “सूक्ष्म लघु एवं मध्यम उधम” पर यहाँ एक वर्ड है Enterprises (उद्यम) उसको समझना महत्वपूर्ण है क्योंकि जब हम एंटरप्राइजेज की बात करते हैं तो यह उद्योग नहीं बल्कि उधम होता है। उद्यम में दो तरह के कारोबार आते हैं।

  • Service Enterprises
  • Manufacturing Enterprises

भारत के सभी MSME  को दो भागों में विभाजित किया गया है, पहली जो सेवाएं प्रदान करती है और दूसरी जो प्रोडक्ट बनाती है।

एमएसएमई के अंतर्गत आने वाली इंडस्ट्री

अब बात करते हैं कि वह कौन सी इंडस्ट्री है जो MSME के अंतर्गत आती है या जिन्हें हम एमएसएमई कह सकते हैं। देखिए वर्ष 2006 में एक Act पास हुआ था जिसका नाम था The Micro, Small and Medium Enterprises Development Act 2006 इससे पहले MSME को Small Scales Industries कहा जाता था।  एमएसएमई 2006 के अंतर्गत वे इंडस्ट्री जो Manufacturing करती है, उन्हें तीन भागों में विभाजित किया गया। 1. Micro (सूक्ष्म) 2. Small (लघु) 3. Medium (मध्यम).

Packed Food, फल, सब्जी, किराना, होटल, रेस्टोरेन्ट, Milk, मत्स्य, मुर्गी, पशु, मॉल, मोटर वहन, फर्नीचर, कॉस्मेटिक, ब्यूटीपार्लर, सैलून, इलेक्ट्रिक, बुक्स, कॉपी, दर्जी, लैब, हार्डवेर, कारपेंटर, लेधर etc…

MSME के पुराने रूल यानी कि 2006 की Act के हिसाब से कहा गया था कि किसे आप Micro में रखेंगे किसे Small में और किसे Medium में तो चलिए हम example से समझते हैं।

जैसे कि कोई Medium Industries है तो उसे 12% टैक्स देना पड़ेगा। small है तो उसे 10% टैक्स देना पड़ेगा और Micro है तो उसे एक 8% टैक्स देना पड़ेगा। यानी ज्यादा फायदा माइक्रो इंडस्ट्रीज को है क्योंकि उसे कम टैक्स देना पड़ेगा। अब हम  इसकी परिभाषा समझते हैं।

  • Micro = 25 लाख
  • Small = 5 करोड़
  • Medium = 10 करोड़

वह उद्योग Micro उद्योग कहलाता था जिसे से स्टार्ट करने के लिए 25 लाख की Investment की जरूरत होती थी। यानी कि 25 लाख इन्वेस्टमेंट है तो वह माइक्रो उद्योग में जाता था।

5 करोड़ तक का Investment है तो Small उद्योग में जाता था और 10 करोड़ या उससे ज्यादा का Investment है तो वह Medium उद्योग में चला जाता था। हालांकि इसमें Services के मामले में अलग था। अब सरकार ने सोचा कि उन्हें और छूट दी जाए और इसलिए अब जो New Act आया है उसमें बताया गया कि।

  • Micro = 1 करोड़ ( और 5 करोड़ का टर्नओवर )
  • Small = 10 करोड़ ( 50 करोड़ का टर्नओवर )
  • Medium = 20 करोड़ ( 100 करोड़ का टर्नओवर )

अब हम समझते हैं कि क्या है MSME के वो Benefits और वह कौन सी ऐसी छूट दी जाती है जो Large  इंडस्ट्रीज या Heavy इंडस्ट्रीज को नहीं दी जाती है।

Benefits of MSME (MSME Registration के फायदे)

  1. सबसे पहले तो MSME Registration का फायदा जो हे वह है प्रायोरिटी लैंडिंग जैसे कि आप एमएसएमई का रजिस्ट्रेशन लेते हैं तो बैंकों (RBI) को जो गाइडेंस दिया जाता है सरकार की तरफ से लैंडिंग को लेकर उसमें MSMEs को सबसे पहले Priority section में रखा जाता है।
  2. बैंकों में प्रायोरिटी में रहने के कारण बैंक भी उन फाइल को जल्द से जल्द देखती है और उन्हें जल्दी Loan देती है।
  3. Interest Rate जो MSMEs को मिलता है, वह बाकी लोगों से कम रहता है और समय-समय पर सरकार उस में सब्सिडी भी देती है।
  4. Credit Line Guarantee की, सरकार एमएसएमई सेक्टर के लिए Without collateral loan की भी कुछ व्यवस्था की है जिसमें सेंट्रल गवर्नमेंट गारंटी देती है। आपके लिए Bank को उसे कहते हैं CGTMSE” (Credit Guarantee Scheme for Micro and Small Enterprises) इसमें सरकार आप से कुछ चार्जिस लेती है Bank उसे सेन्ट्रल गोरमेंट को देती है और Central Government आपकी गेरंटी देती हे बैंक को Incas of Faliar अगर आपका baseness नहीं चल पता है तो बैंक को ज्यादा Loss नहीं होता है।
  5. सरकार समय-समय पर MSME Sector को Subsidy देती है जैसे कि कई बार आप इंफ्रास्ट्रक्चर में इतना खर्चा करेंगे तो सरकार की तरफ से आपको 30% सब्सिडी मिलेगी, आपको पावर के लिए कुछ % सब्सिडी मिलेगी। इस तरह कुछ-कुछ सब्सिडी समय-समय पर आप लोगों को मिलती रहेगी तो इस प्रकार आप अलग-अलग सब्सिडी का फायदा उठा सकते हैं। अगर आप एमएसएमई में रजिस्टर्ड है।
  6. MSME Unit अपने आप को Register करवा कर, उन हालत में जैसे कि उनका पैसा कही पर फसा है। जैसे कि केडिटर हुए एडिटर हुए तो सरकार में कुछ प्रावधान ऐसे रखे हैं कि हमारा पैसा बहुत दिनों तक कोई रोक नहीं सकता। उसे जल्द से जल्द हमारे पैसा Clear करना होगा।

अब कुछ लोगों को मन में यह सवाल आता है कि Trader को MSME Registration लेना चाहिए क्या? या  ट्रेडर एमएसएमई रजिस्ट्रेशन ले सकते हैं क्या?

MSME Loan के लिए आवेदन कौन कर सकता है

हमने कुछ रिसर्च किया पढ़ा तो उसने पाया कि उसमें कुछ Dout है लेकिन आज  समय में Trader MSME Registration के ले सकते हैं। वह Services के अंदर आएगा, क्योंकि हम जो ट्रेडिंग कर रहे हैं वह भी एक तरफ की सर्विस है तो Trader भी MSME Registration ले सकते हैं।

तो अगर आप लोगों को MSME Registration को लेकर कोई डाउट हो या फिर एमएसएमई रजिस्ट्रेशन कैसे लेना है, एमएसएमई लोन के लिए आवेदन कैसे करें, एमएसएमई की क्या गाइडलाइन है तो आप इस वेबसाइट पर जा सकते हैं (udyam registration)

Conclusion

आज हमने देखा कि क्या है MSME, एम एस एम ई में कौन-कौन सी Services आती है MSME Registration के क्या फायदे हैं? सरकार एमएसएमई को क्या-क्या Benefits देती है और आखिर में हमने यह भी देखा कि कौन-कौन लोग MSME Registration करवा सकते हैं।

तो हम आशा करते हैं कि My Secret Guide द्वारा दी गई MSME kya hai in Hindi कि सभी जानकारियां आप लोगों को समझने में अच्छी लगी होगी और यह सब जानकारियों से आप लोगों को कुछ दुविधाओं का समाधान हो पाएगा तो दोस्तों आज का Topic हम यहीं पर समाप्त करते हैं और मिलते है दूसरी और भी रोचक और informative जानकारियों के साथ अगर आप लगो को हमारी यह जानकारी अच्छी लगी हो तो अपने दोस्तों के साथ share करना न भूले Thank यू..

आप यह भी पढ़ सकते है: 10th ke baad kya kare?-कौन सा सब्जेक्ट्स ले पुरी जानकारी हिंदीमें(2020)

Spread the love

1 thought on “MSME kya hai? जानिए एमएसएमई रेजिट्रेशन और लोन के बारे में”

Leave a Comment